आलोक कुमार (alok) wrote in google_hindi,
आलोक कुमार
alok
google_hindi

गूगल लाया हिंदी लिखने की सुविधा

श्रीष ने बताया कि इस पंद्रह अगस्त को गूगल ने भारतीयों के लिए एक उपहार भेंट करने की घोषणा की, लेकिन घोषणा अधूरी ही थी, पर गूगल लैब्स के भारतीय स्थल से पता चल ही गया कि उपहार क्या है। वह था लिप्यंतरण की सुविधा। ब्लॉगर सेवा में तो यह पहले ही था, पर बिना सत्रारंभ किए ऐसा करने की सुविधा भी अब होगी। उसी तरह, गूगल के निजीकृत पन्ने पर यह जोड़ने की सुविधा भी होगी - और यह कई ब्राह्मी आधारित लिपियों वाली भाषाओं में उपलब्ध है।
पर जैसा कि श्रीष ने बताया, यह सुविधा गूगल मुखपृष्ठ पर प्रदान नहीं की गई है। इसकी वजह दो हो सकती हैं - दोनो ही हैं शायद। एक तो यह कि गूगल इस बात का खास खयाल रखता है कि मुखपृष्ठ पर क्या जाए और क्या न जाए, यह निर्णय मुख्यतः मरीसा मेयर लेती हैं। दूसरा यह शायद लोगों को निजीकृत पन्ने का प्रयोग करने को उकसाने के लिए किया गया हो।
जो भी हो, यह स्पष्ट है कि हिंदी पाठकों/लेखकों के मन में गूगल के प्रति जो जगह थी, वह अब और पक्की हो गई है।
यह भी उल्लेखनीय है कि गूगल के जिन कर्मचारियों ने यह घोषणा की है, नाम से तो यही प्रतीत होता है कि वे हिंदीभाषी नहीं है। अतः मात्र भावुकता के बजाय यह एक बड़ी सोची समझी रणनीति के अंतर्गत लिया गया एक कदम है।

21 अगस्त को जोड़ा -
अंततः ऍम टी रघुनाथ और गोकुल नाथ बाबू मनोहरन ने विस्तृत सूचना दे ही डाली।


क्या आप गूगल के बारे में कुछ बताना चाहते हैं?
Tags: गूगल हिंदीकरण भारतीयकरण क्षे
  • Post a new comment

    Error

    default userpic
  • 4 comments