आलोक कुमार (alok) wrote in google_hindi,
आलोक कुमार
alok
google_hindi

जीमेल और पिकासा की निःशुल्क भंडारण सीमा

गूगल की डाक सेवा, जीमेल की निःशुल्क भंडारण सीमा है 2.82 गीगाबाइट और पिकासा की है एक गीगाबाइट। यह खबर गूगल के चिट्ठे ने दी है। इसके पहले पिकासा की भंडारण सीमा की तो सूचना थी, लेकिन प्रायः जीमेल के बारे में यही माना जाता था कि कोई सीमा ही नहीं है। अब इस बात का खुलासा हो गया है कि ऐसा नहीं है

इसी प्रकार गूगल डॉक्स - में भी निःशुल्क भंडारण सीमा लागू होगी।

यदि आपका अपना गूगल खाता हो, तो अपनी सीमाएँ यहाँ देख सकते हैं। उल्लेखनीय है कि जब जीमेल की सेवा शुरू हुई थी, तो एक शगूफ़ा था पूरा एक गीगाबाइट निःशुल्क भंडारण। उन दिनों याहू और हॉटमेल 4-5 मेगा बाइट, यानी .004 या .005 गीगाबाइट भंडारण ही निःशुल्क देते थे। देखा देखी याहू और हॉटमेल ने भी अपनी सीमा बढ़ाई, लेकिन अगले साल ही दो गीगाबाइट की घोषणा गूगल कर बैठा।

अब ऐसा प्रकट हुआ है कि जीमेल में छः गीगाबाइट की सामग्री रख पाने के लिए सालाना बीस डॉलर देने पड़ेंगे - यानी चालीस रुपए वाले - कुल जमा आठ सौ रुपए सालाना। यही दाम पिकासा के भी हैं।

जो लोग अब तक पॉप सेवा का इस्तेमाल ही बंद किए बैठे थे, अथवा पॉप का इस्तेमाल करते तो थे, लेकिन जीमेल से कभी डाक मिटाते नहीं थे, उन्हें अपनी नीति पर पुनर्विचार करना पड़ सकता है।

तो कुल मिला के जीमेल ने निःशुल्क भंडारण के मामले में याहू और हॉटमेल को पीटा तो ज़रूर, लेकिन अंततः थोड़ा और ऊपर आ कर वही नीति अपनाई जो इसके प्रतिद्वन्द्वी भी अपना रहे थे।

हाँ, भंडारण के अलावा अन्य खूबियाँ भी जीमेल में हैं, खास तौर पर हिंदी में डाक लिखने और पढ़ने वालों के लिए। अभी भी जीमेल यूनिकोडित हिन्दी में मौजूद एकमात्र डाकसेवा है। शायद इन्हीं अतिरिक्त सेवाओं के चलते गूगल वालों ने सोचा होगी कि शायद प्रयोक्ता पैसे निकालने को तैयार हो जाएँ, पर यह तो समय ही बताएगा कि ऐसा वास्तव में होगा या नहीं।

हाँ, एक बात ज़रूर है कि जीमेल की निःशुल्क भंडारण सीमा हर दिन बढ़ती जाती है, अर्थात् यदि आप आज के दिन जीमेल में 2.8 जीबी से अधिक सामग्री रखना चाहें तो आपको पैसे देने पड़ेंगे, लेकिन करीब दो महीने बाद यह थोड़ी अधिक हो जाएगी। अतः जब तक आपकी डाक का आकार बढ़ने की दर जीमेल के निःशुल्क भंडारण की सीमा के बढ़ने के दर से कम है, तब तक आपके लिए यह सेवा निःशुल्क ही रहेगी।


क्या आप गूगल के बारे में कुछ बताना चाहते हैं?
Tags: जीमेल, पिकासा
  • Post a new comment

    Error

    default userpic
  • 3 comments