आलोक कुमार (alok) wrote in google_hindi,
आलोक कुमार
alok
google_hindi

जीड्राइव की अफ़वाहें

ख़बर गर्म है कि गूगल वाले लोगों की सारी की सारी जानकारी अपनी मशीनों पर और अपनी डिस्कों पर रखने का मास्टर प्लान बना रही है। गूगल का अन्ततः लक्ष्य यह है कि आपके कम्प्यूटर में हार्ड डिस्क नाम की कोई चीज़ ही न रहे - और यदि रहे भी तो आपको एहसास ही न हो कि ऐसा भी कुछ होता है। आपकी डाक, पते, फ़ाइलें, सब कुछ - गूगल के पास रहेगा - उसीमें गूगल से खोज कर कर के आप अपनी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

गूगल का इरादा यह है कि इस प्रकार आपकी जानकारी को और तेज़ी से खोजा जा सकेगा।
और साथ ही, कहीं भी जाएँ, बिना अपनी मशीन लिए, फिर भी आपकी जानकारी आपके पास ही है।

पर कुछ अड़चनें हैं, जैसे कि इतनी सामग्री जाल पर आवाजाही करेगी तो इसकी गति क्या होगी। शायद इसीलिए गूगल फ़ाइबर ऑप्टिक खरीदने को उतारू है।

है न विश्वविजयी अश्वमेध यज्ञ की शुरुआत?

बीबीसी का कहना है कि गूगल ने इसके बारे में और कुछ कहने से मना कर दिया, और सीनेट के अनुसार ये ख़बर ग़लती से लीक हो गई। अब हमें तो पता है कि गूगल ऐसी ग़लतियाँ अक्सर जानबूझ कर करता रहता है।
देखते हैं इस बार 1 अप्रैल को गूगल क्या गुल खिलाता है।

क्या आप गूगल के बारे में कुछ बताना चाहते हैं?
Tags: अफ़वाह, गूगल
  • Post a new comment

    Error

    default userpic
  • 1 comment
1 अप्रैल के बारे में कुछ लोगों ने पूछा, तो थोड़ा खुलासा - हर एक अप्रैल को गूगल जनता जनार्दन को ऍप्रिल फ़ूल बनाता है। कभी चाँद पर दफ़्तर, कभी पिजन रैंक। उसी की ओर इशारा था, कि अगली एक अप्रैल आने ही वाली है।